शनिवार, 21 दिसंबर 2013

परिवर्तन के रणनीतिकार

परिवर्तन के रणनीतिकार
……………………………

एक अकेले नहीं केजरीवाल,
देश में फैले कई हजार,
हर गाँव - शहर गढ़ रहे,
अरबिंद के नये नये अवतार।

पुराने सभी दल झेल रहे,
व्यवस्था परिवर्तन की मार,
राहुल, मोदी पर भी भारी,
अरबिंद केजरीवाल की धार।

जाति-संप्रदाय-भाषा-क्षेत्र के,
सारे मुद्दे हैं दरकिनार,
देश में चलेगी तो सिर्फ,
एक भ्रष्टाचार मुक्त सरकार।

इस आन्दोलन में कूद पड़े,
लेखक, कवि और चित्रकार,
जनता की आवाज़ बन गये,
निडर-निर्भीक छायाकार-पत्रकार।

"आप" की ताकत के पीछे,
हैं चेहरे कई परदे के पार,
देश के कोने-कोने में रहते,
इस परिवर्तन के रणनीतिकार।

ॐ . ੴ . اللّٰه . † …….
Om.Onkar. Allâh.God…..
जय हिंद ! जय जगत् (Universe)!
- ग़ुलाम कुन्दनम्
9931018391.

इस कविता को लिखने की प्रेरणा मुझे "प्रभात खबर" अखबार में छप रहे एक
कालम "परिवर्तन के रणनीतिकार" तथा कुछ अन्य लेखकों के "अभिमत" को पढ़कर
मिली, जिनमें से कुछ लिंक आप सभी देशप्रेमी भाई-बहनों से साझा कर रहा हूँ
। चित्र और लिंक संबंधित वेबसाइटों से साभार।

"आप" के रणनीतिकार देश में ही नहीं, अप्रवासी भारतीय के रूप में विदेशों
में भी फैले हैं । सभी का योगदान एक से बढ़कर एक है और नमन करने योग्य है।

राहुल-मोदी पर भारी केजरीवाल की धार

गुरुवार, 12 दिसंबर 2013